Exclusive News बड़ी खबर

EXCLUSIVE एशिया के प्राचीन संग्रहालय से एक्सेसन पंजी गायब, पुरातात्विक धरोहरों का रिकॉर्ड नहीं,, पुरातत्ववेता बोले “गंभीर लापरवाही जाँच कराये मंत्री”

WWW.THEINDIPENDENT.COM

रायपुर- संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग का बड़ा घोटाला सामने आया है। विभाग के राजधानी स्थित महंत घासीदास संग्रहालय में एकसेसन पंजी नहीं है। जिसके बाद संग्रहालय में मौजूद प्राचीन सम्पदाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल उठ रहा है।

महंत गुरुघासीदास संग्रहालय की गिनती एशिया के प्राचीन संग्रहालयों में होती है जिसका एकसेसन पंजी नहीं है। सूचना के अधिकार से मिले दस्तावेज इसकी पुष्टि करते है। संग्रहालय में एकसेसन पंजी नहीं होना अपने आप में बड़ी गड़बड़ी को उजागर करता है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के नियमो के अनुसार प्रत्येक संग्रहालय एकसेसन पंजी होना आवश्यक है।

क्या है एकसेसन पंजी-

पुरातत्व के जानकारों के अनुसार एकसेसन पंजी संग्रहालय की रीढ़ होती है, पंजी में संग्रहालय में मौजूद प्राचीन सिक्के मुर्तिया पथरो की जानकारी होती है। एकसेसन पंजी ही एक ऐसा दस्तावेज है जिसमे संग्रहालय में मौजूद सामग्रियों के बारे में जानकारी होती है कि किस मूर्ति, सिक्के को लाया गया। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के नियमो के एकसेसन पंजी को बार बार नहीं बनाया जाता ना ही उसमे काटछांट किया जाता है। एकसेसन पंजी में किसी भी प्रकार के छेड़छाड़ या बदलाव करना अपराध है।

महंत घासीदास संग्रहालय का इतिहास पुराना है इसका निर्माण वर्ष 1875 में राजा महंत घासीदास ने करवाया था। जिसका लोकार्पण प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद ने 1953 में किया था। ऐसे प्राचीन संग्रहालय में एकसेसन पंजी का ना होना बड़े घोटाले की ओर इंगित करता है। इस मामले पर संस्कृति विभाग के सचिव अलबगन पी. से बात करने की कोशिश की गई पर सचिव ने कोई जवाब नहीं दिया। वही पुरात्तववेता पदम् श्री अरुण शर्मा ने कहा कि

“एकसेसन पंजी संग्रहालय में होना नितांत जरुरी है और होगा भी। अगर नहीं है तो ये बड़ी गंभीर चूक है जिसकी जाँच होना अति आवशयक है। एकसेसन पंजी नहीं होने से संग्रहालय की प्राचीन धरोहरों का रिकॉर्ड मुश्किल है। ऐसे में कोई प्राचीन वस्तुओ को ले जाये या बेच तो पता नहीं चलेगा। मंत्री और विभाग को इसकी तत्काल जाँच करना चाहिए।”

 

 

 

 

भ्रष्टाचार और गड़बड़ी में शामिल अधिकारियो को पदोन्नति, विरोध में कर्मचारियों ने खोला मोर्चा… अनुमोदन के लिए फाइल पहुंची मंत्री के पास!

About the author

THEINDIPENDENT.COM

Add Comment

Click here to post a comment

-Ad-

Follow Me

Advertisement

-Ad-

Exclusive News

-Ad-

error: Content is protected !!