Exclusive News बड़ी खबर

खबर के बाद जागा एयरपोर्ट प्रबंधन, टूटे दीवाल को ईटो से चुनवाया… पुलिस की जाँच अब तक अधूरी,, खबर का असर

रायपुर– एयरपोर्ट के लिए आरक्षित जमीन पर कारोबारी द्वारा कब्ज़ा कर दीवाल को तोड़ने संबंधी खबरे प्रकाशित होने के बाद एयरपोर्ट प्रबंधन ने तोड़े गए दीवाल को मरम्मत करवाया और ईटो से दीवाल को दोबारा चुनवाया है।

राजधानी के स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट की ग्राम बनरसी में आरक्षित जमीन खसरा 428/2 में एक कारोबारी ने बलपूर्वक कब्ज़ा कर सड़क बनाया और बॉउंड्री दीवाल को तोड़ दिया था, जिसकी खबर theindipendent.com ने प्रमुखता से 30 जून  को प्रकाशित किया था जिसके बाद एयरपोर्ट प्रबंधन ने तोड़े गए दीवाल को ईटो से चुनवाया है। कारोबारी ने बॉउंड्री दीवाल को लगभग 22 फ़ीट तोडा था, वही मीटर अपने अपने खेत में आवाजाही के लिए करीब 110 मीटर लंबा सड़क बना दिया है।

होटल बनाने सरकारी जमीन को लीज में माँगा, नहीं देने पर बलपूर्वक किया कब्ज़ा… दीवाल तोड़ा और बना दिया सड़क

 

दीवाल किसने तोड़ा किसी को नहीं पता –

एयरपोर्ट के लिए आरक्षित जमीन पर कारोबारी ने कब्ज़ा करते हुए रातो रात सड़क बना दिया और आवाजाही के लिए दीवाल को तोडा डाला। उसके बाद भी एयरपोर्ट प्रबंधन को सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले की जानकारी नहीं है। एयरपोर्ट प्रबंधन ने पुलिस में किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा दीवाल तोड़ने की शिकायत की है। जबकि मौके पर दीवाल जोड़ते मजदूरों से लेकर विभाग के अधिकारियो को दबी जुबान पता है किसने दीवाल तोड़ा और एयरपोर्ट के निदेशक उसका नाम क्यों नहीं बता रहे है।

जांच के नाम पर खानापूर्ति!

एयरपोर्ट प्रबधन ने माना पुलिस थाना में नामजद शिकायत की बजाए अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ शिकायत किया है जिसकी जाँच पंद्रह दिन गुजरने के बाद भी अधूरी है। वहीं उक्त शिकायत की जानकारी माना थाना के पुलिसकर्मियों को नहीं है। theindipendent टीम ने जानकारी जुटाई तो पता चला की शिकायत पत्र थानेदार ने खुद रिसीव कर आवेदन अपने पास रखा है। जिससे अब तक प्रारंभ नहीं हो पाई है।

विभागीय अधिकारियों से पुलिस को दीवाल तोड़ने वालो की जानकारी है पर जांच के नाम पर औपचारिकता पूरी की जा रही है। theindipendent.com ने 1जुलाई को सड़क बनाने और दीवाल तोड़ने वाले कारोबारी और उसके सहयोगी के नाम का खुलासा किया था उसके बाद पुलिस और एयरपोर्ट प्रबंधन अभी एफआईआर नहीं कर पाई है। माना थाना प्रभारी दुर्गेश रावते ने कहा कि

शिकायत की जाँच प्रधान मुंशी कर रहे है, अभी  तक दीवाल तोड़ने वाले की जानकारी नहीं मिली है।”

 

EXCLUSIVE संग्रहालयों का सत्यापन करने 15 सालों बाद जारी हुआ आदेश, उसमे में गंभीर त्रुटी,, नहीं हो सकेगा सत्यापन!

-Ad-

Advertisement

-Ad-

Exclusive News

Follow Me

-Ad-

error: Content is protected !!