देश बड़ी खबर राजनीति

हिंसा और आगजनी से सहमे बीजेपी कार्यकर्ता, विधायको ने गृहमंत्री से लगाई गुहार.. बीजेपी का देशभर में धरना,, हिंसा के लिए दोनों ही पार्टी जिम्मेदार!

नई दिल्ली 4 मई 2021,  पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद से हिंसा और आगजनी जारी है। सत्तासीन पार्टी तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओ द्वारा कथित तौर पर बीजेपी कार्यकर्ताओ के घरो, दुकानों और पार्टी कार्यालय में आगजनी किया जा रहा है। टीएमसी कार्यकर्ताओ का उपद्रव 2 मई को चुनाव परिणाम के बाद से जारी है, 2 मई की रात बीजेपी के पार्टी कार्यालय को आग के हवाले कर दिया था। तब से जारी हिंसा अब तक जारी है।

बीजेपी नेताओ के अनुसार 24 घंटे में 10 से अधिक बीजेपी कार्यकर्ताओ की हत्या हो चुकी है। लगातार हिंसा और उन्मादी भीड़ से बीजेपी कार्यकर्ता और विधायक सहमे हुए है, वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से रक्षा के लिए गुहार लगा रहे है। राज्य में भड़की हिंसा के बाद राज्यपाल जगदीप धनगर ने मुख्य सचिव और गृह सचिव से जवाब माँगा है पर हिंसा नहीं रुकी है। कार्यकर्ताओ की हत्या के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगतप्रकाश नड्डा आज से दो दिवसीय दौरे पर पश्चिम बंगाल में है। वे यहाँ हिंसा में मारे गए कार्यकर्ताओ के परिजनो से मिलेंगे। बंगाल पहुंचे नड्डा ने कहा कि “स्वतंत्र भारत में चुनाव के बाद ऐसी हिंसा नहीं देखा, बीजेपी कार्यकर्ताओ को निशाना बनाया जा रहा। हम लोकतांत्रिक से जवाब देंगे।”

EXCLUSIVE डॉ रमन सिंह नहीं चाहते थे कि ओपी चौधरी बने भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष?

दुकाने लूटी, महिलाओ से सामूहिक बलात्कार !

बीजेपी नेताओ के अनुसार जीत की ख़ुशी में तृणमूल कार्यकर्ताओ द्वारा बीजेपी के महिला कार्यकर्ताओ के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया जा रहा, उनकी हत्याएं की गई। बीजेपी समर्थको की दुकानों को लुटा गया। उनसे मारपीट की जा रही। बीजेपी प्रवक्ता संबित पत्र ने कहा कि टीएमसी कार्यकर्त्ता उत्पात मचा रहे और ममता बनर्जी तमाशबीन बनी हुई है। राज्य में जारी हिंसा को लेकर बीजेपी नेता और सीनियर वकील गौरव भाटिया ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल किया है।

हिंसा के दोनों जिम्मेदार!

पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान बीजेपी और टीएमसी के नेताओ ने एक दूसरे के खिलाफ जमकर आरोप लगाए और रैलियों में उकसाने वाले नारे लगाए थे। सत्ता में आने के बाद एक दूसरे को देख लेन की अघोषित धमकी का परिणाम अब सामने आ रहा है। बीजेपी के फायरब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ ने चुनावी रैली में कहा था कि “2 मई के बाद जान की भीख मांगेगे टीएमसी के गुंडे “ चुनाव में लगे जय श्री राम के नारे, हिन्दू मुस्लिम मतदाताओं को रिझाने, तुष्टिकरण वाले बयानों और चंडी पाठ का असर हिंसा के रूप में सामने आया है। राजनीती प्रेक्षकों की माने तो इसके लिए टीएमसी और बीजेपी दोनों जिम्मेदार है। बीजेपी इस मुद्दे को देश भर में भुनाने 5 मई को धरना प्रदर्शन करेंगी।

 

असम में फेल हुई कांग्रेस की रणनीति, मुफ्त बिजली और कर्ज माफ़ी के वादे को मतदाताओं ने ठुकराया.. फिर बीजेपी सरकार!

About the author

THEINDIPENDENT.COM

Add Comment

Click here to post a comment

Advertisement

-Ad-

Follow Me

Advertisement

-Ad-

Exclusive News

-Ad-

error: Content is protected !!