बड़ी खबर विशेष

शर्मनाक: विधानसभा अध्यक्ष की मौजूदगी में हुई थी युवक की मौत… बीजेपी कार्यकर्ताओ और पुलिस के पीटने से हुई युवक की मौत?

राहुल गोस्वामी@THEINDIPENDENT.COM

रायपुर– साल 2010 में हुआ सतीश श्रीवास्तव हत्याकांड में परिजनों को अब तक नहीं न्याय नहीं मिला है, परिजनों ने सत्ता परिवर्तन के बाद मुख्यमंत्री से फरियाद किया है। वर्ष 2010 में नवरात्री के आखरी रात में बिलासपुर निवासी सतीश श्रीवास्तव की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी, जिसका लाश रेलवे लाइन में मिला था। परिजनों ने बीजेपी नेताओ की मौजुदगी में थाना प्रभारी और सिपाहियों पर हत्या का आरोप लगाया था पर सत्ता के सरंक्षण में जाँच नहीं हुई। अब सत्ता बदलने के बाद मृतक के परिजन न्याय की उम्मीद में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मिल जाँच की मांग किया है।

16अक्टूबर 2010 में बिल्हा में आयोजित माता जगराता कार्यक्रम में बिलासपुर निवासी सतीश श्रीवास्तव की मौत हुई थी। उस कार्यक्रम में तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक और प्रदेश महामंत्री भूपेंद्र सवन्नी बतौर मुख्य अतिथि मौजुद थे। सतीश पेशे से साउंड चलाने का काम करता था जो जगराता कार्यक्रम में साउंड चलाने बिल्हा गया था। 16 अक्टूबर 2010 नवमी की रात में साउंड चलाने के दौरान उसकी मौत हो गई और लाश अगले दिन बिल्हा के रेलवे लाइन में पड़ी मिली। पुलिस के अनुसार सतीश की मौत रेल से टकराने से हुई थी। लेकिन परिजनों की माने तो बिल्हा के तत्कालीन थाना प्रभारी अलोक दत्ता और पुलिस आरक्षकों और बीजेपी कार्यकर्ताओ ने युवक को पीट पीट कर मार डाला और हत्याको आत्महत्या बताने लाश रेलवे लाइन में फेक दिया।

बीजेपी नेताओ ने मामला दबाया– सतीश श्रीवास्तव की मौत को बीजेपी नेताओ ने दबाने में पूरी ताकत लगा दिया था।16 अक्टूबर की आधी रात मृतक के परिजनों को बताया गया कि  युवक की ट्रेन से टकराने से मौत हो गई। सुबह परिज न बिल्हा पहुंचे तो पुलिस ने लाश ले जाने की अनुमति नहीं दी और ना ही कोई गाडी दी, जिससे लाश को बिलासपुर ले जाया जा सके। तो परिजनों ने सतीश की लाश को स्ट्रेचर में रख चार किलोमीटर दुरी चल लाश को बस स्टैंड ले जाया।

यह प्रदेश की पहली घटना होगी जिसमे शहरी क्षेत्र में लाश को स्ट्रेचर में चार किलोमीटर का सफर पड़ा था। मृतक के पिता ने तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक , मंत्री अमर अग्रवाल , प्रदेश महामंत्री भूपेंद्र सवन्नी, लोकसभा सांसद दिलीप सिंह जूदेव से न्याय कि फरियाद की तो सभी ने आश्वासनं दिया पर  उतनी ही तेजी से जांच को दबा दिया।

सवन्नी पर भरोसा करना महंगा पड़ा- मृतक सतीश के पिता नरेश श्रीवास्तव को तत्कालीन बीजेपी महामंत्री भुपेन्द्र सवन्नी पर भरोसा करना महंगा पड़ा। अगर नरेश भुपेन्द्र सवन्नी पर भरोसा नही करते तो शायद उनका बेटा आज जीवित होता। नरेश श्रीवास्तव ने बताया की

घटना की रात 12 बजे सतीश ने फ़ोन कर कार्यकर्ताओ द्वारा मारपीट करने की जानकारी दी तो मैंने भूपेंद्र सवन्नी को फ़ोन कर पूरी बात बताया जिस पर सवन्नी ने सब ठीक होने का आश्वासन दिया था। उसके बाद नरेश ने फिर सवन्नी को काल किया तो सवन्नी ने झगड़ा शांत करने की बाते कही उसके बाद फिर फ़ोन नहीं उठाया। अगली सुबह नरेश की मौत होने की जानकारी मिली।” मृतक सतीश के पिता नरेश श्रीवास्तव आरएसएस और बीजेपी के कार्यकर्ता है जिससे बीजेपी नेताओं धरमलाल कौशिक और भूपेंद्र सवन्नी से पुराना परिचय था।

पीएम रिपोर्ट में मारपीट से मौत की पुष्टि– पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डॉक्टरों ने रेल से टकराने वाली बात को ठुकराते हुए पिटाई से मौत होने की पुष्टि की। फोरेनसिक विभाग तत्कालीन डीन डॉ एस के मोहंती ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि

“युवक की मौत ट्रैन से टकराने से नहीं हुई थी, युवक को अंदर और बाहर चोट लगने से हुई। ट्रैन से टकराने से मौत के कोई निशान नहीं है।”

डॉक्टर द्वारा जारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट की कॉपी theindipendent के पास मौजूद है। सतीश की मौत रेल से टकराने से नहीं बल्कि बेदम पीटने से हुई थी। सतीश को बेरहमी से लाठी, डंडा, हॉकी स्टिक से पीटा गया था जिससे उसके जबड़े, पसली टूट गई तो सिर की नस फट गई थी। ऐसे में सवाल उठता है कि तत्कालीन थाना प्रभारी अलोक दत्ता, पुलिस सिपाहियों के साथ क्या बीजेपी कार्यकर्ताओ ने सतीश को डंडा, रॉड  से पीटा था जिससे उसकी की मौत हो गई?

कहीं नहीं मिला न्याय- सतीश की मौत के बाद परीजन  पांच सालों तक नेता, अधिकारी, कोर्ट और मानवाधिकार आयोग के चक्कर लगते रहे पर कहीं भी न्याय नहीं मिला। पुलिस ने आत्महत्या बताते हुए एफआईआर दर्ज नहीं किया। ना ही तत्कालीन टीआई आलोक दत्ता सहित पुलिसकर्मियों के बयान लिए।

इस मामले में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक और प्रदेश प्रवक्ता भूपेंद्र सवन्नि से बात करने कोशिश की गई, उन्हें मेसेज भेजा गया पर कोई भी जवाब नहीं आया।।

 

-Ad-

Advertisement

-Ad-

Exclusive News

Follow Me

-Ad-

error: Content is protected !!