Exclusive News बड़ी खबर

EXCLUSIVE विधि विरुद्ध किया संविलियन, अब आईपीएस अवार्ड की तैयारी… अफसरों ने खोला मोर्चा,,

राहुल गोस्वामी@Theindipendent.com

रायपुर- पुलिस विभाग में प्रमोशन और नियुक्ति के नाम पर बड़ा खेल चल रहा है। विभाग के कुछ अफसर अपने करीबी अधीनस्थों को उपकृत करने कानून की धज्जिया उड़ा रहे है।

तत्कालीन मामला आईपीएस अवार्ड से जुड़ा हुआ है जहा विभाग ने छत्तीसगढ़ से अवार्ड के लिए अफसरों की जानकारी मांगी है जिसमे शामिल नाम को लेकर बवाल मच गया है। दरअसल आईपीएस अवार्ड के लिए केंद्र सरकार ने साल 2020 के लिए छत्तीसगढ़ से दो पद स्वीकृत किया है जिसके लिए राज्य पुलिस सेवा के छह अफसरों धर्मेंद्र सिंह छवाई, दर्शन सिंह मरावी, यशपाल सिंह, उमेश चौधरी, मनोज कुमार खिलारी और रवि कुमार कुर्रे का नाम इम्पैनल किया गया है। जिसमे एएसपी यशपाल सिंह का नाम शामिल होने पर स्टेट पुलिस सेवा के अफसरों ने आपत्ति की है।

रसूख के आगे नियम नतमस्तक-

राज्य पुलिस सेवा के अधिकारियो की माने तो मूलतः कानपुर यूपी के निवासी यशपाल सिंह बीएसएफ के जवान है जिनका छत्तीसगढ़ पुलिस में संविलियन साल 2009-10 में हुआ था। यशपाल सिंह तत्कालीन बीजेपी सरकार में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और अमन सिंह का रिश्तेदार बताकर शहरी क्षेत्रो में ही दिन गुजारा है। दस्तावेजों के अनुसार 2010 में छत्तीसगढ़ पुलिस में संविलियन हुए श्री सिंह को अफसरों ने वर्ष 1997 का वरिष्ठता क्रम में शामिल कर अनोखा रिकॉर्ड बनाया है जिससे राज्य पुलिस सेवा के अफसरों से वे 13 साल सीनियर हो गए है। जिसके बाद अफसरों ने उनका नाम आईपीएस अवार्ड के लिए शामिल किया है जो पूर्णतः विधि विरुद्ध है।

वही उनके शामिल होने से राज्य पुलिस सेवा के अफसरों का सीधा नुकसान होने की संभावना है जिसे लेकर अफसरों में नाराजगी है। अफसरों के प्रतिनिधि मंडल ने इसकी शिकायत सीएम भूपेश बघेल से किया जिस पर सीएम ने “न्याय करने” का आश्वासन दिया है।

पुलिस विभाग में कृपापात्र अफसरों की फेहरिस्त बहुत लम्बी है। बीते दिनों 2011 बैच के राज्य पुलिस सेवा के अफसर को बिना डीपीसी के पद्दोन्नत कर एएसपी बनाया गया और नियम विरुद्ध कंधे में अशोक स्तम्भ का तमगा लगा दिया गया। जबकि उसी बैच के अन्य अफसरों को अभी प्रमोशन का इन्तजार है। अब दोनों ही मामले कोर्ट की रुख कर सकते है।।

 

एसपी की प्रताड़ना से तंग आकर जवान ने किया था सुसाइड! लिखा ” एसपी मुझसे गाली गुफ़्तार करते थे” परिजनों ने डीजी से की शिकायत

About the author

THEINDIPENDENT.COM

Add Comment

Click here to post a comment

-Ad-

Follow Me

Advertisement

-Ad-

Exclusive News

-Ad-

error: Content is protected !!