Exclusive News बड़ी खबर

नियुक्ति में फर्जीवाड़ा, सचिव ने मांगी जानकारी,, कृपापात्रो ने बिगाड़ी विश्वविद्यालय की छवि

रायपुर, 20 अक्टूबर-  प्रदेश के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय में नियमो को दरकिनार कर की गई नियुक्ति पर उच्च शिक्षा सचिव ने जवाब माँगा है। विश्वविद्यालय में प्रबंधन ने नियमो की अवहेलना करते हुए अपात्र को रीडर बना दिया है, जिसकी शिकायत राजभवन और उच्च शिक्षा विभाग में पहुंची थी। जिसके बाद उच्च शिक्षा सचिव धनंजय देवांगन ने आयुक्त उच्च शिक्षा संचनालय को तलब किया है।

EXCLUSIVE नियुक्ति में फर्जीवाड़ा, नियमो की अवहेलना कर बना दिया रीडर,, कुलसचिव ने कहा “गलत लगे तो कोई कोर्ट जा सकता है”

कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय में कुलसचिव ने नियमानुसार भर्ती प्रक्रिया अपनाने की बजाये अपात्र को रीडर पद पर नियुक्त कर दिया है, जिसका खुलासा सूचना के अधिकार से मिले दस्तावेजों से हुआ।

कुलसचिव और विश्वविद्यालय प्रबंधन ने शैलेन्द्र खंडेलवाल को नियुक्त करने नियमो की अवहेलना की। कुलसचिव ने अपने पद का दुरूपयोग किया और न्यायालय में लंबित मामले की परवाह ना कर खंडेलवाल को सीधे रीडर बना दिया। कुलसचिव आनंद शंकर बहादुर पर एक अपात्र अतिथि प्राध्यापक को पैसे लेकर नियुक्ति करने का आरोप है, जिसकी शिकायत जल्द ही एबीवीपी राज्यपाल से करेगी।

फर्जीवाड़ा का गढ़ बना विश्वविद्यालय-

प्रदेश के एकमात्र पत्रकारिता विश्वविद्यालय में कृपापात्रो की भरमार है। यहाँ के अधिकतर प्राध्यापक और कर्मचारी अपने योग्यता से नहीं बल्कि कृपा से नियुक्त हुए है। जिसके चलते विश्वविद्यालय लगातार विफलता की उल्टी सीढ़ी चढ़ रही है। सूत्रों की माने तो पदस्थ प्राध्यापक अध्यापन की बजाये राजनीति में ज्यादा रूचि लेते है जो वेतन विश्वविद्यालय से लेकर राजनितिक पार्टियों और उनके सत्ताधीशो की खिदमत करते है। वही विश्वविद्यालय में पदस्थ अधिकतर कर्मचारियों की नियुक्त संबंधी दस्तावेज फर्जी है, जो आने वाले दिनों में सार्वजनिक हो सकता है। उच्च शिक्षा सचिव धनंजय देवांगन Theindipendent.com से कहा कि

“रीडर नियुक्ति की शिकायत की जानकारी माँगा गया है, जाँच के बाद कार्यवाही होगी।”

 

फर्जीवाड़ा- नियुक्ति करने बुलाई आपातकालीन बैठक, जाँच समिति ने नहीं दिया प्रतिवेदन,, फिर भी हो गया सलेक्शन

 

-Ad-

Follow Me

Advertisement

-Ad-

Exclusive News

-Ad-

error: Content is protected !!