छत्तीसगढ़ बड़ी खबर

नियमों की धज्जिया उड़ाकर विधायक ने दिया धरना, पुलिस रही मूकदर्शक,, कोरोना संक्रमण में प्रदर्शन है प्रतिबंधित

रायपुर–  प्रदेश में बीते धारा 144 प्रभावशील है ऐसे में धरना प्रदर्शन और सभी तरह के सार्वजनिक आयोजनों पर पूरी तरह पाबंदी है उसके बाद भी सरकारी नियमो की धज्जिया उड़ाते हुए मनेन्द्रगढ़ के सत्तासीन विधायक विनय जायसवाल ने धरना प्रदर्शन किया। विधायक जायसवाल ने दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों की को बहाल करने की मांग करते हुए कोरिया जिले के चिरमिरी में एसईसीएल प्लांट के बाहर धरना देकर कर्मचारियों को बहाल करने कहा।

विधायक के साथ सैकड़ो की संख्या में उनके समर्थक और बर्खाश्त दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी थे जिनकी बहाली की मांग विधायक कर रहे है। विधायक के प्रदर्शन से सोशल डिस्टेंसिंग और धारा 144 की धज्जिया उड़ गई। विधायक बिना मास्क के नारेबाजी करते रहे और पुलिस मूकदर्शक बनी रही।

प्रशासन की खानापूर्ति कार्यवाही-

विधायक विनय जायसवाल नियमो की अवहेलना करते हुए अपने समर्थको के साथ प्रदर्शन किया जिस पर निगम प्रशासन ने खानापूर्ति कार्यवाही करते हुए सभी पर 100-100 रुपये जुर्माना लगाकर औपचारिकता पूरी की। जबकि नियमो का उल्लंघन करने पर एफआईआर का प्रावधान है। बिलासपुर में राशन बाँट रहे विधायक के घर में भीड़ जुटने पर बिलासपुर पुलिस ने विधायक पर एफआईआर दर्ज किया था तो कोर्ट में बिना मास्क लगाए पहुंचे वकील पर कोरबा पुलिस ने गैर जमानती धाराओं में अपराध पंजीबद्ध किया है।

 

विधायक विनय जायसवाल से बात करने की की गई पर विधायक का फ़ोन बंद रहा।

 

बिना मास्क लगाए कोर्ट पंहुचा वकील, पुलिस ने गैर जमानती धाराओं में किया एफआईआर,,

About the author

THEINDIPENDENT.COM

Add Comment

Click here to post a comment

-Ad-

Advertisement

-Ad-

Exclusive News

Follow Me

-Ad-

error: Content is protected !!