छत्तीसगढ़ बड़ी खबर

VIDEO पुलिस के अवैध उगाही और वसूली पर बिफरे विधायक… भरे मंच में कहा “वसूली का लगा दो रेट लिस्ट” कबाड़ और कोल कारोबारियों को पुलिस का खुला सरंक्षण!

बिलासपुर, 9 नवंबर 2020-  नए थाना भवन के उदघाटन समारोह में शामिल हुए सत्तासीन विधायक ने पुलिस पर अवैध उगाही का संगीन आरोप लगाया है। बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय पुलिस की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जाहिर करते हुए बिफर पड़े। पांडेय ने गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू की मौजूदगी में पुलिस की पोल खोल कर असलियत बया कर दी है।

EXPOSE “टीआई से लेकर बड़े साहब तक जाता है पैसा, नहीं होगी परेशानी” न्यायधानी में कबाड़ कारोबारियों का कबूलनामा और पुलिस सरंक्षण में चल रहा कबाड़ कारोबार!

दरअसल सोमवार को बिलासपुर के सरकंडा और तारबाहर थाना के नए भवनों का उद्घाटन समारोह था जिसमें गृहमंत्री ताम्रध्वज वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से जुड़े थे। विधायक पांडेय ने बोलना शुरू किया कि

“माननीय मंत्री जी आपने विधानसभा में हुक्का पर प्रतिबंध लगाने कहा था पर बिलासपुर में खुलेआम हुक्का पिलाया जा रहा है। बिलासपुर पुलिस अवैध उगाही में लगी हुई, चंद पैसे को लेकर व्यापारियों को परेशान किया जा रहा है। जिस पुलिस की वर्दी पर आम लोगो की जिम्मेदारी है उस पर लोग भरोसा नही कर पा रहे है।”

पुलिस के कार्यक्रम में विधायक को ऐसा बोलते देख मौजूद सभासद और वर्चुअल जुड़े गृहमंत्री दंग थे। विधायक यही नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि

“पुलिस को अच्छे भवन और सुविधा मिलने पर खुश हु, इनका कल्याण होना चाहिए। लॉकडाउन के दौरान कुरकुरे अनलोड करते व्यापारी को उठा थाना ले आई और 3000 रुपये का सौदा कर बारात निकलने की बाते की गई… सब्जी वाले से सब्जी थाने में छोड़ने में की बाते की गई। पुलिस को यहाँ रेट लिस्ट लगा देना चाहिए कि इस काम का इतना, इस काम का इतना…मंत्री जी मै हुक्का बार नहीं चलाता,ना ही कोयले का कारोबार नहीं करता….. ना ही ठेकेदारी और न ही गुड़ाखू फ़ैक्ट्री चलता हु।”

विधायक शैलेश पांडेय द्वारा पोल खोलने के दौरान पुलिस अधिकारी बगले झाकते रहे। बिफरे विधायक को गृहमंत्री ने शांत कराते हुए कहा कि

“विधायक जी थाना भवन के उद्धाघाटन समारोह में सीमित में बात रखे, आपको जो भी शिकायत है लिखित में दे मै कार्यवाही कराऊंगा।

बिलासपुर पुलिस पर स्क्रेप कारोबारियों से लेन देन कर सरंक्षण देने के आरोप पहले भी लगा है। पुलिस पैसे लेकर कबाड़ कारोबारियों को सरंक्षण दे रही है, हुक्का बार चलाया जा रहा है। बेहद विश्वसनीय सूत्रों की माने तो कबाड़ के अलावा कोल माफियाओ से पुलिस के एसपी और आईजी स्तर के अफसरों को प्रति महीने मोटी रकम भेजी जाती है, जिसके चलते सब कुछ सार्वजनिक होने के बाद पुलिस के रेंज स्तर के बड़े अफसर कार्यवाही से हाथ खींच रहे है। जिससे विधायक को खुलेआम शिकायत करना पड़ा है। ।

 

-Ad-

Follow Me

Advertisement

-Ad-

Exclusive News

-Ad-

error: Content is protected !!